कुछ बातें बोली नही जाती तो वो अनकही हो जाती हैं उन अनकही बातों को इन पन्नों पर उतारा है।

Friday, 13 April 2018

डर है मुझे

हाँ डर है मुझे
इस बदलते कायनात से
मरते जन के ज़स्बात से
बिखरते सबके अरमान से
इस बदनसीब जहान से

हाँ डर है मुझे मानवता के कब्रिस्तान से
हाँ डर है मुझे कलयुग के इस अहसास से

जब मंडप पे लगते हैं फेरे
दिखावटी सौगात के
और गरीब की बेटी कहीं
जलती रिवाजों की आग में
तब डर है मुझे
इस लालच में अंधे समाज से

कतरे जाते हैं पंख कहीं
नन्हे चिड़ियों के अरमान के
और झुलस जाते हैं कोमल हाथ
 मजदूरी की ताप से
तब डर है मुझे
भविष्य के बिगड़ते हालात से

जब खून पसीने से सिंचते
खेत और खलिहान कई
पर फ़िर भी कर्जो में डूबकर
फाँसी पर लटके किसान कई
तब डर है मुझे
ऊंचे दफ्तर में बैठे हैवानों से

जब एक बैठे ए. सी. गाड़ी में
और ज़ेब गरम हो नोटों से
दूजा चौराहे पर भटके
लिए कटोरा हाथों में
तब डर है मुझे
औकात के बड़े फ़ासले से

जब बढ़ती आबादी के संग
बढ़ते उद्योग और कारख़ाने
और बढ़ते दामों के संग
जाती कुदरत के बच्चों की जान
तब डर है मुझे
होते प्रकृति के विनाश से

जब बच्चे खड़े हो सिर उठाए
और झुके गर्दन माँ बाप की
वृद्धाश्रम में हो निवास ईश्वर का
और तनहा कटे बुढ़ापा
तब डर है मुझे
संस्कार हीन भारत से

जब डगर डगर पे खतरे हों
हर घर दुःशासन पसरें हों
तो लाज बचाती हर बिटिया
वर माँगे ना जनमे कोई बिटिया
तब डर है मुझे
आज़ाद घूमते दरिंदों से

जब जाती के नाम लुटे अधिकार
काबीलीयत पर है ग्रहण अपार
राजनीति में हुआ बवाल
आरक्षण की जब लगी आग
तब डर है मुझे
की जल ना जाए कोई मति होशियार

जब धर्म का रंग बदल गया
कर्तव्य से संप्रदाय हुआ
फ़िर चली मजहबी आँधी
और हिंदू मुस्लिम में फूट पड़ी
तब डर है मुझे
बँटते हुए भगवान से

हाँ डर है मुझे स्वार्थी इंसान से
हाँ डर है मुझे मानव में मरते इंसान से

हाँ डर है मुझे
हर रोज़ उठते तूफ़ान से
चूर होते सभी अरमान से
बेबसी के हालात से
बढ़ते हुए शैतान से

हाँ डर है मुझे मानवता के कब्रिस्तान से
हाँ डर है मुझे कलयुग के इस अहसास से
हाँ डर है मुझे हर पल हर क्षण अँधेरे में डूबते इस जहान से
हाँ डर है मुझे
डर है मुझे
डर है मुझे

                                        #आँचल 

16 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 16 अप्रैल 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी बिलकुल आऊँगी
      अति आभार सुप्रभात

      Delete
  2. आंचल जी लाजवाब अद्भुत सारे अनैतिक और अवांछित कर्मो का एक भयानक डर आपकी रचना चित्र उकेर रही है। बधाई इतनी शानदार अभिव्यक्ति के लिए।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बस जो डर मन में था उसी को बयाँ करने का प्रयास किया है
      आपकी शुभकामनाओं के लिए और सराहना के लिए आभार दीदी जी
      सुप्रभात

      Delete
  3. बहुत ही मार्मिक

    ReplyDelete
    Replies
    1. अति आभार सुप्रभात

      Delete
  4. वाह!!!
    सत्य का दर्पण दिखाती सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. अति आभार दीदी जी आपकी सराहना उत्साह बढ़ाती है
      सुप्रभात

      Delete
  5. वाह बहुत खूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राधा जी सुप्रभात

      Delete
  6. वाह्ह्ह...बेहद सारगर्भित हृदयस्पर्शी अभिव्यक्ति प्रिय आँचल...👌👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद श्वेता दीदी जी आपकी सराहना ने मेरी रचना का मान बढ़ा दिया लिखना सफल हुआ
      सुप्रभात 🙇

      Delete
  7. वाह!! लाजवाब!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद शुभ दिवस

      Delete
  8. सत्य का दर्पण दिखाती हृदयस्पर्शी पंक्तियाँ अंचल पांडेय जी
    आज मैं आपके ब्लॉग पर आया और ब्लोगिंग के माध्यम से आपको पढने का अवसर मिला 

    ReplyDelete
    Replies
    1. हमारे blog पर आपका स्वागत है आदरणीय भास्कर जी
      उत्साहवर्धक टिप्पणी के लिए बहुत बहुत आभार 🙇

      Delete