कुछ बातें बोली नही जाती तो वो अनकही हो जाती हैं उन अनकही बातों को इन पन्नों पर उतारा है।

Saturday, 16 June 2018

हे सीप तुझीसे पयोधि कथा


बैठी साहिल की खामोशी के साथ
सुन रही थी जलधि का शोर
कोशिश थी मेरी जानने की
क्यू सागर है इतना दंभ विभोर
तभी लहरों ने मन को भाँप लिया
और मुझको भी अपने साथ लिया
फिर छोड़ दिया गहरे सागर में
मैं उतर गयी जल के भूतल पे
फिर वही कहीं से परियाँ आयी
साथ अपने एक एक सीप सब लायी
देखकर आँखें अचरज में थी
जलपरियों के मैं बीच खड़ी थी
तभी उनमें से एक ने कदम बढ़ाया
सीप को मेरे हाथ थमाया
फिर प्यार से सिर पर हाथ फिरा कर
उदधि का अद्भुत एक राज़ बताया
जो देख रही हो ये साफ़ समंदर
सारी है इन सीपों की माया
जैसे धरती पर तरूवर की छाया
बस वही स्थान यहाँ सीपों ने पाया
जैसे प्रदूषण से करता वृक्ष रोकथाम
कुछ ऐसा ही जल में सीपों का काम
जो खींच कर खुद में दूषित कण को
जल को स्वच्छ बनाता है
घटा के जल से नाइट्रोजन को ऑक्सीजन का दर बढ़ाता है
सुनकर सब हैरान मैं थी
सीपों की कथा से अनजान जो थी
परियों ने फिर आगे बतलाया
एक करिश्मे से मुझको अवगत कराया
 खोला मुख अपना उस सीप ने था
थामा जिसको मैंने हाथ में था
देख रही हो ये सुंदर काया
रत्नों में नाम है जिसने पाया
जलधि का ही एक अंश है ये
सीप गर्भ में जो था आया
माँ सा सीप ने इसको पाला
प्रेम से अपने इसको दमकाया
सहकर जाने कितनी पीड़ा
सीप ने इसको मोती बनाया
ये सत्य नही की जलधि को खुदपर ही अभिमान है
ये तो सीप का प्रेम त्याग है जिसपर सागर को इतना गुमान
सीपों के अस्तित्व से ही जीवित ये जलधाम है
जलचर के लिए तो जैसे बस सीप ही भगवान है
जब जान गयी सीपों की गाथा
आदर में झुक गया मेरा भी माथा
हे सीप तू तो वरदान है
तेरी महिमा को मेरा प्रणाम है
वंदन को फिर मैंने मूँदी आँख
खोला तो फिर थी मैं साहिल के साथ
पर हाथ में मेरे वो सीप भी था
जिसमें रखा सुंदर एक मोती था
जिसकी दमक पर साहिल भी बोल उठा
हे सीप तुझीसे पयोधि कथा

                                      #आँचल                      

19 comments:

  1. बहुत परिपक्व लेखन।अद्भुत विचार। आभार एवं बधाई!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय सर आपके इस उत्साहवर्धक टिप्पणी और शुभकामनाओं के लिए
      सादर नमन शुभ दिवस
      फादर्स डे की हार्दिक बधाई 🙇

      Delete
  2. अंतर्मन को स्पर्श करती मनोहारी अभिव्यक्ति. उत्कृष्ट सृजन. मात्राओं सम्बंधी मामूली त्रुटियों को दुरुस्त कर लेने पर रचना और अधिक निखर जायेगी. फ़िर को फिर लिखिये क्योंकि यहाँ नुक़्ता अनावश्यक है. कुछ शब्द नुक़्ते के साथ होते हैं और कुछ में हमें भ्रम होता है जैसे इलाज, वजूद, लाजवाब आदि में नुक़्ता नहीं जुड़ता. कदम= एक पेड़, क़दम= पाँव
    लिखते रहिये आपकी रचना ने मुझे प्रभावित किया है अतः आपको समझाइश भी दे बैठा.
    बधाई एवं शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हम हृदयतल से आपके आभारी हैं आदरणीय सर जो आपने हमे हमारी त्रुटियों से अवगत कराया। दरसल हम phonetics का इस्तेमाल करके लिखते हैं इस कारण अक्सर त्रुटियाँ हो जाती हैं पर post डालने से पहले हम उन्हें सुधार लेते थे पर इस बार जल्दबाज़ी में हमने रचना को पढ़े बिना ही post कर दिया था इस कारण त्रुटियों पर हमारा ध्यान नही गया आप ना बताते तो शायद जाता भी नही।
      और "फ़िर" "फिर" को लेकर तो हम वाक़ई भ्रमित थे आपके कारण आज भ्रम दूर हो गया। हमे हिन्दी शब्दों का बहुत अधिक ज्ञान नही है इसलिये आपकी ये टिप्पणी हमारे लिए विशेष हैं जिसने नुक़्ता के विषय हमारा ज्ञान बढ़ाया।
      आपकी बधाई शुभकामना और सराहना के लिए बहुत बहुत धन्यवाद 🙇
      हमे जानकर खुशी हुई की आपको रचना पसंद आयी।आगे भी अगर कोई त्रुटि नज़र आए तो हमे अवगत कराइएगा क्युन्की त्रुटियों को सुधारना ही कलम को तराशना है
      पुनः आभार आपका आपकी ज्ञानवर्धक विशेष टिप्पणी के लिए सादर नमन शुभ दिवस
      फादर्स डे की हार्दिक बधाई 🙇

      Delete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (18-06-2018) को "पूज्य पिता जी आपका, वन्दन शत्-शत् बार" (चर्चा अंक-3004) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    राधा तिवारी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय राधा जी हमारी रचना को इस योग्य समझने के लिए सादर नमन शुभ दिवस 🙇

      Delete
  4. विज्ञान और रसायन शास्त्र की शोध पर बहुत गहरी और भाव भीनी रचना सुंदर शब्दावली और लय को बांधती सुंदर अप्रतिम रचना आंचल आपकी रचना मन को भा गई और देखो गुणी जनो का आशीर्वाद भी पा गई सदा ऊंचाइयों को छू ते रहना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये आपका अनमोल स्नेह आशीष ही है जो आज आदरणीय विश्व मोहन सर और आदरणीय रवीन्द्र सर जैसे गुणी जनों का आशीर्वाद पाने योग्य हम बन सके वरना हम इस लायक कहाँ
      हमारे लिए तो ये किसी बड़ी उपलब्धि या उपाधि को प्राप्त करने जितना हर्षपूर्ण है
      बहुत बहुत धन्यवाद दीदी जी आपकी मनमोहक टिप्पणी सदैव उत्साह बढ़ाती है
      आपका आशीष सदैव यूँही प्राप्त होता रहे इसी कामना के साथ सादर नमन शुभ दिवस 🙇

      Delete
  5. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक १८ जून २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया श्वेता दीदी बहुत बहुत धन्यवाद हमारी रचना को चुनने के लिए
      बिलकुल आऊँगी
      सादर नमन शुभ दिवस 🙇

      Delete
  6. 👏👏👏👏क्या बात आँचल काव्य रचा या सागर मंथन कर डाला ...कितने विषयों को छू कर नव काव्य सुनहरा रच डाला .....सदा रचो उन्नत काव्य नव संस्कृति की ग्राहक हो सरस लेखनी बढे चले मन तृप्त और परिचायक हो !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीया दीदी जी
      मंथन ही समझिए क्युन्की सीप जैसे गुणकारी जीव के बारे जाने कितना कुछ है जिसके विषय में हमे कुछ ज्ञात नही और इसकी महिमा एसी है जो हम मनुष्यों को ज़िंदगी का ज्ञान भी दे सकती है
      हम तो बस इसके कुछ ही गुणों को प्रस्तुत कर पाए हैं
      बस आपका अनमोल स्नेह आशीष यूँही मिलता रहेगा तो बेशक हमारी कलम को उन्नति प्राप्त होती रहेगी
      पुनः आभार आपका दीदी जी अपनी मनमोहक टिप्पणी द्वारा उत्साह बढ़ाने हेतु और आपके स्नेह आशीष हेतु
      सादर नमन शुभ दिवस 🙇

      Delete
  7. Covered up the pollution and chemistry very nicely, loved it a lot.

    ReplyDelete
    Replies
    1. thank you so much respected Sarkar Ji
      welcome to my blog
      have a good day 🙇

      Delete
  8. वाह!बहुत खूबसूरत !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आदरणीया शुभा दीदी आपकी मनमोहक प्रतिक्रिया के लिए
      सादर नमन शुभ रात्रि 🙇

      Delete
  9. Replies
    1. हार्दिक आभार आपका 🙇

      Delete
  10. रोचक कथा सीप की ...
    विज्ञानं के तथ्यों के साथ रचना में निखार आ गया है जो नवीनता देता है इस लाजवाब रचना को ...

    ReplyDelete