कुछ बातें बोली नही जाती तो वो अनकही हो जाती हैं उन अनकही बातों को इन पन्नों पर उतारा है।

Saturday, 26 May 2018

जेठ दुपहरी कागा बोले

जेठ दुपहरी कागा बोले
सुन सूरज ए आग के गोले
जलता ये तन तप रहा बदन
क्यू फेंकता यू अंगार के ओले
काहे इतना रिसीयाए हो तुम
किसपर इतना गुस्साए हो तुम
क्या हुई किसी से तेरी लड़ाई
किसमें है इतनी हिम्मत आयी
क्या भूल हुई कुछ हम मुढी जीवों से
जो प्रचंड ताप से धरती झुलसाई
नदी नाले सब सिकुड़ गये
पोखर भी जल से बिछूड़ गये
हम प्यासे बस जल को भटक रहे
लिए सूखे कंठों को तड़प रहे
जो उड़े गगन पंख सहे तपन
हवा भी जैसे  अग्नि प्रहार करे
ना थल पर कोई ठंडी छाँव मिले
ना जल से सुखी कोई गाँव मिले
इस जेठ तपिश में सूरज भइया
बस तेरी रोषआंच और प्यास मिले
अब छोड़ दे सारा गुस्सा मेरे भाई
और बाँध के सेहरा सिर पे बदरा का
कर ले बरखा संग प्रेम सगाई
फ़िर प्रेम बौछार जो होगी भौजी की
ये जेठ सावन हो जाएगा
मन भीगा खुशी में गाएगा
और तू भी ठंडा हो जाएगा
फ़िर धरती को ना झुलसाएगा

                           #आँचल 

18 comments:

  1. वाह वाह लाजवाब उल्हाना विनती और हल सब एक तारतम्य लिए बहुत प्यारी रचना ।
    सूरज भईया को काग का संदेश कि बदरी सी भौजाई लाओ भाई.…..

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद दीदी जी बहुत बहुत धन्यवाद
      बस A. C. में बैठे बैठे जब समझ नही आया क्या लिखूँ तभी कलपना में काग को कुछ यूँ बात करते सुन लिया बस काग के उन्ही शब्दों को कविता का रूप देने की कोशिश की थी
      आपको पसंद आयी सार्थक हो गयी शुभ संध्या दीदी जी 🙇

      Delete
  2. उत्कृष्ट रचना 👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार anu didi

      Delete
  3. नमस्ते,
    आपकी यह प्रस्तुति BLOG "पाँच लिंकों का आनंद"
    ( http://halchalwith5links.blogspot.in ) में
    सोमवार 28 मई 2018 को प्रकाशनार्थ साप्ताहिक आयोजन हम-क़दम के शीर्षक "ज्येष्ठ मास की तपिश" हम-क़दम का बीसवां अंक (1046 वें अंक) में सम्मिलित की गयी है।


    प्रातः 4 बजे के उपरान्त प्रकाशित अंक अवलोकनार्थ उपलब्ध होगा।
    चर्चा में शामिल होने के लिए आप सादर आमंत्रित हैं, आइयेगा ज़रूर।
    सधन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार हमारी रचना को चुनने के लिए 🙇

      Delete
  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (28-05-2018) को "मोह सभी का भंग" (चर्चा अंक-2984) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    राधा तिवारी

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार हमारी रचना को चुनने के लिए 🙇

      Delete
  5. बहुत सुन्दर रचना....
    बदली भौजाई!!!!
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आदरणीया
      सादर नमन शुभ रात्रि

      Delete
  6. अरे वाह्ह्ह...बहुत बहुत सुंदर रचना आँचल...👌👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद दीदी जी
      सादर नमन शुभ रात्रि

      Delete
  7. वाह, बहुत सुंदर ! अनूठी कल्पना !!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आदरणीया
      सादर नमन शुभ रात्रि

      Delete
  8. Replies
    1. हार्दिक आभार आपका स्वागत है हमारे blog पर
      सादर नमन शुभ रात्रि

      Delete
  9. बहुत खूब रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय सादर नमन शुभ रात्रि

      Delete