कुछ बातें बोली नही जाती तो वो अनकही हो जाती हैं उन अनकही बातों को इन पन्नों पर उतारा है।

Sunday, 8 July 2018

घिर घिर आओ कारे बदरवा

घिर घिर आओ कारे बदरवा
छाओ घटा घनघोर

लागे अगन जिया में बयार के
बिरहिनी धरा को मूर्छा छायी
ताकत रस्ता पूछे नहरिया
कउने चक्कर घन ने सुध बिसराई

भटके ईहाँ ऊहाँ प्यास से
चिरई कउआ रहे अकुलाई
झुलसत तरुवर सूखत पोखर
संग चातक मिल करत दुहाई

घिर घिर आओ कारे बदरवा
छाओ घटा घनघोर

भीगे तन मन भीगे सब जन
भीगे इक इक पात डार की
कूके कोयल गावे पपीहा
संग मल्हारी हो गरजन मेघ की

ठुमकत मयूरा मनुहार करे
ताल देत लड़कपन की ताली
कृषि मन में उत्साह जगे
जो भीजे धरा की हरियर साड़ी

घिर घिर आओ कारे बदरवा
छाओ घटा घनघोर

हो मिलन फुहार बयार का पावन
गीली माटी की गंध उठे सौंधी सौंधी
झमझम कर बाराती बौछारें आए
मंडप में टर्राते बैठे मेंढक मेंढकी

पड़ जाए झूला अमवा की डार पर
झूलन को आए सब सखी सहेली
सावन का रस्ता देखें सुहागिन
रचाने को हाथों में तीज की मेहंदी

घिर घिर आओ कारे बदरवा
छाओ घटा घनघोर

घनघोर बरस नव जीवन लाओ
यही बिनती सब ओर
घिर घिर आओ कारे बदरवा
छाओ घटा घनघोर

#आँचल

16 comments:

  1. घनघोर बरस नव जीवन लाओ
    यही बिनती सब ओर
    घिर घिर आओ कारे बदरवा
    छाओ घटा घनघोर...
    👌👌👌👌Worth reading. Excellent writing style

    ReplyDelete
    Replies
    1. thank you so much Sir for your words
      very good night 🙇

      Delete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (09-07-2018) को "देखना इस अंजुमन को" (चर्चा अंक-3027) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    राधा तिवारी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय राधा जी हार्दिक आभार हमारी रचना को इस योग्य समझने के लिए

      Delete
  3. बहुत मनभावन और सरस गीत आंचलिक रंग में। बधाई और आभार!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय सर बस आपकी रचनाओं से प्रेरित होकर हमने भी छोटा सा प्रयास किया था आपको पसंद आयी सार्थक हो गयी
      सादर नमन शुभ रात्रि 🙇

      Delete
  4. आँचलिकता की चाशनी में पगी रसमय मनमोहक रचना है आपकी आँचल जी जो बरसात के सम्पूर्ण चित्र को जीवंत करती है। क़ाबिल-ए-तारीफ़ है आपका सृजन। लिखते रहिये। बधाई एवं शुभकामनायें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय सर आपने तो हमारी साधारण सी रचना की इतनी सराहना कर इसका खूब मान बढ़ा दिया।और आपकी टिप्पणी ने हमारे उत्साह को भी खूब बढ़ाया इसके लिए हार्दिक आभार।
      आपकी शुभकामनाएँ और शुभ आशीष आगे भी बनी रहे इसी कामना के साथ सादर नमन सुप्रभात शुभ दिवस 🙇

      Delete
  5. निमंत्रण विशेष : हम चाहते हैं आदरणीय रोली अभिलाषा जी को उनके प्रथम पुस्तक ''बदलते रिश्तों का समीकरण'' के प्रकाशन हेतु आपसभी लोकतंत्र संवाद मंच पर 'सोमवार' ०९ जुलाई २०१८ को अपने आगमन के साथ उन्हें प्रोत्साहन व स्नेह प्रदान करें। सादर 'एकलव्य' https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी हम उपस्थित रहेंगे हार्दिक आभार 🙇

      Delete
  6. लोक गीत सी मनोहर सुंदर गायन शैली की अप्रतिम अभिराम प्रस्तुती आंचल बहुत मनभावन रचना पुरे पावस के सभी चिन्हों को काव्यात्मक ढंग से उकेरा है आपने ।
    वाह रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हमने तो बस प्रयास किया है दीदी जी बाकी आप सबका स्नेह आशीष है।
      आपकी मनमोहक टिप्पणी और उत्साहवर्धक सराहना के लिए हृदयतल से आभारी हैं हम।
      सादर नमन सुप्रभात शुभ दिवस 🙇

      Delete
  7. भीगे तन मन भीगे सब जन
    भीगे इक इक पात डार की
    अप्रतिम पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  8. पड़ जाए झूला अमवा की डार पर
    झूलन को आए सब सखी सहेली
    सावन का रस्ता देखें सुहागिन
    रचाने को हाथों में तीज की मेहंदी बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  9. हो मिलन फुहार बयार का पावन
    गीली माटी की गंध उठे सौंधी सौंधी
    झमझम कर बाराती बौछारें आए
    मंडप में टर्राते बैठे मेंढक मेंढकी!!!!
    बहुत ही मधुर काव्य प्रिय आंचल !! आपके लेखन में निरंतर निखार बहुत ही सुखद है | सस्नेह |

    ReplyDelete