कुछ बातें बोली नही जाती तो वो अनकही हो जाती हैं उन अनकही बातों को इन पन्नों पर उतारा है।

Saturday, 27 January 2018

चुपके से तितली मैं बन जाऊँ

चुपके से तितली मैं बन जाऊँ

चुपके से तितली मैं बन जाऊँ
हौले से मन के पंख फैलाऊँ
पंख फैलाकर मस्त उड़ जाऊँ
चुपके चुपके चुपके चुपके

चुपके से तितली मैं बन जाऊँ

यूँही बहारों संग बह जाऊँ
रंगो से अपने सब मन छू जाऊँ
गमो को भुलाकर फ़िर से उड़ जाऊँ
चुपके चुपके चुपके चुपके

चुपके से तितली मैं बन जाऊँ

मधुकर के संग नए रागों को गाऊँ
बागों में कुसुम संग मैं खिलखिलाऊँ
फ़िर रस को चुराकर मगन उड़ जाऊँ
चुपके चुपके चुपके चुपके

चुपके से तितली मैं बन जाऊँ
   
                             #आँचल 

33 comments:

  1. Are wah , Bahot acchi Kavita h .lagi raho
    Wase photo me mera naam likh ne ko Kis ne bola tha , m Khud watermark use nahi krti

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब आप ने ही कहा था की दोस्तों को पूछने की ज़रूरत नही है तो बस बिना पूछे लिख दिया और वैसे भी सबको पता होना चाहिए की इतनी सुंदर pic किसने ली है 😊

      सराहना के लिए अति आभार 😊🙏

      Delete
  2. बेहतरीन रचना.... चुपके से तितली मैं बन जाऊँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद
      सुप्रभात 🙏

      Delete
  3. बहुत सुंदर लिखा है बेटा... Cute सी रचना 👏🏻👏🏻 😊

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you sooo much bhaiya ji 😊🙏

      Delete
  4. मन की कोमल और मासूम भावनाओं का सुंदर पराग।
    अति सुन्दर। आंचल जी।
    शुभ संध्या ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार दीदी जी
      सुप्रभात 🙏😊

      Delete
  5. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

  6. बहुत सुंदर रचना

    तुम तितली बन जाओ
    मैं बन जाऊं तेरा गुलाब।
    तुम सवाल बन जाओ
    मैं बन जाऊं तेरा जवाब।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका 🙏

      आपकी पंक्तिया मनभावन सी है
      बेहद सुंदर 👌
      सुप्रभात 🙏

      Delete
  7. आपकी लिखी रचना सोमवारीय विषय विशेषांक "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 29 जनवरी 2018 को साझा की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी बिल्कुल आऊँगी Ma'am
      अति आभार आपका
      सुप्रभात 🙏

      Delete
  8. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद 🙏सुप्रभात

      Delete
  9. सुंदर कल्पना मै तितली बन जाऊँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद
      सुप्रभात 🙏

      Delete
  10. बहुत प्यारी रचना आँचल जी..वाह्ह👌👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार दीदी जी आपकी सराहना ने मान बढ़ा दिया मेरी पंक्तियों का
      सुप्रभात 🙏🙏

      Delete
  11. बहुत सुंदर मनमोहक रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद दीदी जी 🙏
      शुभ दिवस

      Delete
  12. सुंदर कोमल मनोभावों से सजी रचना..

    ReplyDelete
  13. अति आभार दीदी जी 🙏
    शुभ दिवस

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आपका 🙏

      Delete
  15. तितली बन जाऊं ! कितनी सुंदर कल्पना !!!!!!!!! सुंदर रचना -----

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
    2. अति आभार सुप्रभात 🙏

      Delete
  16. बहुत सुंदर!!

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर!!

    ReplyDelete