कुछ बातें बोली नही जाती तो वो अनकही हो जाती हैं उन अनकही बातों को इन पन्नों पर उतारा है।

Monday, 22 January 2018

माँ सरस्वती माँ शारदे

माँ सरस्वती माँ शारदे


माँ सरस्वती माँ शारदे
             जीवन का हमको सार दे
माँ सरस्वती माँ शारदे

हंसासिनी,पद्मसिनी,सौदामिनी
वंदन करें तुझे रागिनी
माँ छेड़े वीणा के तान ऐसे
दुर्मति की हो काट जैसे
निज मन स्वरों को सुधार दे
माँ तू है वीणावादिनी

माँ सरस्वती माँ शारदे
             जीवन का हमको सार दे
माँ सरस्वती माँ शारदे

मातेश्वरी,वागेश्वरी,ज्ञानेश्वरी
माया की तू परमेश्वरी
माँ जग में है अंधियार ऐसे
अमावस की हो रात जैसे
सोम ज्ञान का तू प्रकाश दे
माँ तू है जगदीश्वरी

माँ सरस्वती माँ शारदे
              जीवन का हमको सार दे
माँ सरस्वती माँ शारदे

                           -आँचल 

2 comments:

  1. बहुत सुंदर सरस्वती वन्दना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद दादाजी
      नमस्ते शुभ रात्रि 🙏🙏

      Delete